मंगलवार, 21 अगस्त 2018

मुख्यमंत्री जी को कोई करने नहीं देता , मुझे कोई रोकता नहीं



पहले दिन गुजरते हुए 



अगले दिन गुजरते हुए

आइए आपको दिखाते हैं कि हम क्या करते हैं और और हम सब क्या कर सकते हैं । इन दोनों तस्वीरों को बड़ा करके देखिए , फर्क तो आपको आसानी से दिख जाएगा ।


बिटिया बुलबुल को उसकी नृत्य कक्षा में छोड़ कर वापस घर जा रहा होता हूँ । अचानक पूर्वी  के इस निकाय पर नज़र पड़ती है । आदतन मैं मोबाईल निकाल लेता हूँ । क्लिक क्लिक क्लिक । तभी वहीं पास खड़ा व्यक्ति मुझे इस नज़र से देखता है , मानो मैं कोई अपराध कर रहा हूँ ।

"फ़ोटो क्यों खींच रहा है" 

मैं मुस्कुरा कर उसे जला कर भस्म कर देने वाले अंदाज़ में उससे कहता हूँ । कल मेरी शादी है यहाँ , कहते कहते अपना आई कार्ड नुमाया कर देता हूँ । वो खिसक लेता है ।


अगले दिन दफ्तर पहुंच कर सबसे पहला काम । तगड़ी फटकार नगर निगम के दफ्तर से फोन उठाने वाले महारथी ।
आप कौन हो , कैसे बोल रहे हो , फिर से वही बात । और मेरा स्वर तल्ख हो जाता है । उसी शाम ,स्वच्छ भारत । 

कहाँ हो भजप्पा के पप्पा , और पप्पू के चप्पू , बिचारे धारीवाल जी को क्या कहें , वो निरीहप्राणी तो पहले ही कहता है मुझे कुछ करने नहीं देते ।


मुझे कोई रोक नहीं पाता करने से , मैं रोके रुकता भी नहीं हूँ । तो आप क्यूँ रुके हैं

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मुद्दों पर मैंने अपनी सोच तो सामने रख दी आपने पढ भी ली ....मगर आप जब तक बतायेंगे नहीं ..मैं जानूंगा कैसे कि ...आप क्या सोचते हैं उस बारे में..

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Google+ Followers